Menu Close

University Youth Festival

21 नवंबर चरखी दादरी, स्थानीय जनता महाविद्यालय मे चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित द्वितीय युवा महोत्सव युनीफेस्ट के दुसरे दिन के कार्यक्रम का शुभारंभ बतौर मुख्यातिथि सेवानिवृत्त आईआरएस एवं केन्द्रीय सदस्य लोकपाल श्री महेन्द्र श्योराण के साथ संस्थापक सदस्य वरिष्ठ अधिवक्ता श्री श्यामलाल वशिष्ठ, जीएसटी के केंद्रीय इंटेलिजेंस अधिकारी श्री रविन्द्र सांगवान,प्रधान दादरी एजूकेशन सोसाइटी, श्री अर्जुन बजाज, डॉ सतबीर सिंह सचिव युवा कल्याण विभाग,डॉ.यशवीर सिंह प्राचार्य,श्री रामसिंह बलकरा,आयोजन सचिव डॉ.पी.के अग्रवाल, डॉ.नीरज गर्ग द्वारा माँ सरस्वती की प्रतिमा पर द्वीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम के समन्वयक एवं प्राचार्य डॉ.यशवीर सिंह ने सभी आगंतुक अतिथियों का स्वागत एवं धन्यवाद किया। कार्यक्रम में महाविद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्यों द्वारा सभी मुख्यातिथियों का शॉल व स्मृति चिन्ह् देकर सम्मानित किया। मुख्यातिथि श्री महेंद्र सिंह श्योराण ने सभी युवाओं का मार्गदर्शन करते हुए अपने जीवन को नई ऊंचाइयों तक पंहुचाने पर बल दिया। इस बात पर चिन्तन करने के लिए आगाह भी किया कि हम किस स्तर पर हैं, विधार्थियों का मुख्य उद्देश्य मात्र डिग्री हासिल करना नहीं है बल्कि अपने आपको प्रतिस्पर्धा के युग में स्वयं की प्रतिभा को निखारने का होना चाहिए। युवा महोत्सव युवाओं में रचनात्मक एवं सकारात्मक उर्जा का संचार करने में सहायक है। वरिष्ठ अधिवक्ता एवं महाविद्यालय संस्थापक सदस्य श्याम लाल वशिष्ठ ने संबोधित करते हुए अपने जीवन के कटु अनुभवों को सहेजते हुए युवाओं को जीवन का सार्थकता के लिए अथक परिश्रम को अपरिहार्य बताया।उन्होंने युवाओं से इस तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर सहभागिता का आह्वान किया। उन्होंने संस्था के संस्थापक श्री रामकिशन गुप्ता के संघर्ष एवं अनुभवों पर विस्तृत विचार रखे। डॉ विधा गुप्ता ने युवाओं को 37 विविध ललित कलाओं के माध्यम से नई उर्जा का संचार करते हुए भविष्य संवारने को प्रेरित किया।उन्होनें विधार्थियों को अतिथि देवो भवः की परम्परा के निर्वहन करने बल दिया।विश्वविद्यालय के युवा कल्याण विभाग के सचिव डॉ.सतवीर सिंह ने सभी मंचों पर दुसरे दिन होने वाली प्रतिस्पर्धाओं का विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया।बाल कलाकार मनस्वी अहलावत ने नृत्य कला से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर शानदार प्रस्तुति पेश की। प्रसिद्ध लोक कलाकार महाबीर गुड्डू ने शंखनाद कर प्राचीन संस्कृति का परिचय देते हुए शिव लहरी की प्रस्तुति देकर सबका मन मोह लिया।विभिन्न विधाओं में विधार्थी कलाकारों ने अपनी प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन करते हुए रंगारंग प्रस्तुतियां दी। गौरतलब होगा कि युवा महोत्सव में दो जिलों के लगभग 30 कॉलेजों से लगभग एक हजार कलाकार अपनी प्रतिभा का 37 विभिन्न विधाओं में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं।यह युवा महोत्सव चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय के सौजन्य से आयोजित किया जा रहा जोकि विश्वविद्यालय का द्वितीय युवा महोत्सव है। गत वर्ष विश्विद्यालय के सौजन्य से प्रथम युवा महोत्सव की सफल मेजबानी बीएलजेएस कॉलेज तोशाम द्वारा की गई। जनता कॉलेज के युवाओं के लिए विश्वविद्यालय के युवा महोत्सव की मेजबानी मिलना एक बड़ी उपलब्धि है।युवा महोत्सव के दुसरे दिन विभिन्न विधाओं में सभी मंचों पर दी गई प्रस्तुतियाँ: –
मंच एक पर एकांकी नाटक में सात मीमीक्री में नौ मंच दो पर वेस्टर्न वोकल में छह वेस्टर्न इंस्टालेशन सोलो में चार वेस्टर्न ग्रुप सोंग में चार महाविधालयों की टीम ने भाग लिया। मंच तीन पर लाइट म्यूजिक वोकल में ग्यारह ग्रुप सोंग इंडियन में सात महाविधालयों की टीमों ने भाग लिया। मंच चार पर हरियाणवी कविता पाठ प्रतियोगिता में सोलह पंजाबी कविता पाठ प्रतियोगिता में तेरह तथा मंच पाच पर कौलाज में सोलह, कार्टूनिंग में बारह पेंटिंग में चौदह मेहंदी प्रतियोगिता में बाइस महाविधालयों की टीमों ने भाग लिया।