Menu Close

हरियाणवी लोक संस्कृति एवं त्यौहारों की है देश में अपनी अलग पहचान: संदीप जोशी

विश्वविद्यालय में हरियाली तीज उत्सव कार्यक्रम में लोक कलाकारों ने दी रंगारंग प्रस्तुतियां।

02अगस्त भिवानी, हरियाणा के त्यौहारों एवं संस्कृति का अपना अलग महत्व और पहचान है। हरियाणा के त्योहार एवं लोक संस्कृति आपसी प्रेम और भाई चारे की भावना को बढ़ावा देते हैं। ये विचार हरियाणा हाऊसिंग बोर्ड के चेयरमैन संदीप जोशी ने चौधरी बंसी लाल विश्वविद्यालय में युवा कल्याण विभाग एवं हरियाणा कला परिषद के संयुक्त सौजन्य से आयोजित हरियाली तीज उत्सव कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि विधार्थियों को संबोधित करते हुए कहे।
उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार ने लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में कला परिषद का गठन किया है।
उन्होंने कहा कि हरियाणा अपनी वेशभूषा, खान -पान रहन -सहन और हाजिर जवाबी के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। उन्होंने विश्वविद्यालय द्वारा इस तरह के कार्यक्रम आयोजित करने के लिए कुलपति एवं कुलसचिव सहित आयोजन समिति की प्रशंसा की।
हरियाणा कला परिषद के निदेशक महेश जोशी ने बतौर विशिष्ट अतिथि विधार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि हरियाणा कला परिषद हरियाणवी लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए कृत संकल्पित है। सरकार ने हरियाणा में लोक कलाकारों के लिए भी अनेक कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं।
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आर.के मित्तल ने संबोधित करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय में कई अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम हो चुके हैं और भविष्य में भी अन्तर्राष्ट्रीय कार्यक्रम आयोजित होते रहेंगे। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में सांस्कृतिक कार्यक्रमों को विश्वविद्यालय में विशेष प्रोत्साहन दिया जा रहा है। इसके विश्वविद्यालय में अलग होबी क्लबों का भी गठन किया गया है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश की लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से लोक कलाकारों को समय समय पर सम्मानित किया जाता है। हरियाणा कला परिषद प्रादेशिक लोक सांस्कृतिक कार्यक्रमों का संचालन कर रही है।
विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ.जितेन्द्र भारद्वाज ने संबोधित करते हुए कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रम विधार्थियों के सर्वांगीण विकास में सहायक हैं। उन्होंने कहा कि हमें हमारी लोक संस्कृति पर पूर्णतया: गर्व है। डीन विधार्थी कल्याण डॉ.सुरेश मलिक ने विश्वविद्यालय में युवा कल्याण विभाग के सौजन्य से हरियाणवी संस्कृति को समर्पित कार्यक्रमों का आयोजन होता रहता है इसी तर्ज पर लूर कार्यक्रम किया गया था। अब हरियाली तीज उत्सव के माध्यम से हरियाणवी लोक सांस्कृतिक एवं पारम्परिक व्यंजन, परिधान, खान- पान, मनोरंजन लोक नृत्य एवं लोक गीतों की प्रस्तुतियां दी गई है। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यातियों द्वारा माँ सरस्वती की प्रतिमा के सामने द्वीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। प्रसिद्ध हरियाणवी लोक कलाकार महाबीर गुड्डू द्वारा बम लहरी और भगत सिंह पर देशभक्ति गीत की प्रस्तुति देकर सबका मन मोह लिया।
हरियाली तीज उत्सव कार्यक्रम में मेंहदी, रंगोली,पींगे,देशी व्यंजन सुहाली,गुलगुले,पापड़ी आदि व्यंजन मुख्य आकर्षण रहे। मुख्यातिथियों को शॉल और स्मृति चिन्ह् देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन डॉ सतबीर सिंह द्वारा प्रस्तुत किया गया। मंच का संचालन वीएम बेचैन ने किया। इस अवसर पर प्रो.हरिदत्त कौशिक,प्रदेश भाजपा प्रवक्ता सत्यव्रत शास्त्री सहित अनेक प्राध्यापकों सहित सैंकड़ों विधार्थियों ने भाग लिया।

Media Covers