Menu Close

कृषि की ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग से अपनी आमदनी बढ़ायें किसान: ओमप्रकाश धनखड़

चौधरी बंसी लाल विश्वविद्यालय के दत्तोपंत ठेंगड़ी विकास अध्ययन केन्द्र के सौजन्य से आयोजित विशेष व्याख्यान कार्यक्रम में पूर्व कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़, राज्य किसान आयोग के चेयरमैन प्रो.रमेश यादव ने की शिरकत

31 जनवरी भिवानी, किसानों को आधुनिक खेती अपनाकर बाजार की जरूरतों के अनुसार खेती करनी चाहिए। कृषि में ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग से अपनी आमदनी को बढ़ाना चाहिए ये विचार पूर्व कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने चौधरी बंसी लाल विश्वविद्यालय के दत्तोपंत ठेंगड़ी विकास अध्ययन केन्द्र के सौजन्य से हरियाणा: कृषि समस्याएं एवं समाधान विषय पर किसानों एवं युवाओं को संबोधित करते हुए कहे। उन्होंने कहा कि किसानों के सामने कृषि क्षेत्र में चुनौतियां बहुत हैं लेकिन साथ ही उधम शीलता की अपार संभावनायें हैं। किसानों को उधम शील खेती, बाजार की जरूरतों के अनुरूप, वैल्यू, एडिशन, पैकेजिंग, ब्रांडिंग, डायरेक्ट मार्केटिंग, एग्री सर्विस में निपुणता हासिल कर अपनी आमदनी में कई गुणा बढ़ा सकते हैं।
उन्होंने किसानों से पशुपालन, मुर्गीपालन, मधुमक्खी पालन, मछली पालन, बागवानी, सब्जी एवं शहद उत्पादन से अपनी आमदनी बढ़ानी चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों की आदमनी को दुगनी करने और जोखिम फ्री खेती को बढ़ावा देने के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाओं को लागू किया है।उन्होंने किसानों से परम श्रद्धेय दत्तोपंत ठेंगड़ी के आदर्शों को जीवन में अपनाने का आह्वान किया। राज्य किसान आयोग के चेयरमैन प्रो.रमेश यादव ने संबोधित करते हुए कहा कि किसानों जीवन स्तर में सुधार लाने और किसानों के कल्याणार्थ राज्य किसान आयोग का गठन किया गया है।उन्होंने किसानों से आह्वान किया कि वे अपनी फसल का ब्यौरा पोर्टल पर अवश्य करवायें ताकि सरकार उनकी फसल का दाना दाना उचित मूल्य पर खरीद सके।विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आर.के मित्तल ने संबोधित करते हुए कहा कि हम इस वर्ष को परम् श्रद्धेय राष्ट्र ऋषि दत्तोपंत ठेंगड़ी के जन्म शताब्दी वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। विश्वविद्यालय का दत्तोपंत ठेंगड़ी विकास अध्ययन केन्द्र शिक्षा के द्वारा किसानों की समस्याओं के समाधान की दिशा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा। विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ.जितेन्द्र कुमार भारद्वाज ने सभी मुख्यातिथियों का विश्वविद्यालय परिवार की ओर से स्वागत एवं धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के विधार्थियों को शिक्षा के साथ साथ कृषि एवं ग्रामीण विकास में सहभागिता के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा। कार्यक्रम में मंच का संचालन डॉ.उत्पल कुमार ने किया।किसान संघ के जिला सचिव महिपाल सिंह बड़दू ने किसान संघ द्वारा किसान हित में संचालित कार्यक्रमों पर विचार रखे। किसान राजेराम ने आधुनिक खेती पर किसानों से अनुभव साझा किये। कार्यक्रम में कृषि क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले अनेक किसानों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर पूर्व चेयरमैन ऋषि प्रकाश शर्मा,सतनारायण मित्तल,प्रो.हरिदत्त कौशिक,भाजपा जिलाध्यक्ष नन्दराम धानिया, ताराचंद अग्रवाल, शंकर धूपड़, प्रो.ललिता गुप्ता,डॉ.स्नेहलता शर्मा,डॉ.नरेश कानोजिया,किसान संघ जिलाध्यक्ष अजमेर सिंह, नरेन्द्र सिंह तालु, युवा जिलाध्यक्ष पवन लक्ष्मणपुरा,मंजीत इगराह, सचिन सनसनवाल सहित सैकड़ों युवा एवं किसान उपस्थित थे।